Friday, 14 September 2012

बेगैरत क्यूँ हुए ...




ए अश्क, तुम इतने बेगैरत क्यूँ कर  हुए ,
उनकी खबर नहीं ,तुम नजरों से गिर पड़े .
-- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment