Sunday, 16 September 2012

बह चल लहराकर ..

जीवन मिलता है जिंदगी को तटों पर ,
ए नदी न बह इस कदर सैलाब सी .
तेरी जिंदगी किसी एक की कहाँ ,
बह चल लहरा कर ,न रुक तालाब सी .

किश्ती, तटों के पत्थरों से टकराई ,
तट पर ही मिलेगी टूटने के बाद भी ,
वक्त का गिला, न जन्म का सिला ,
फासला मौत का दरमियाँ आब सी .-- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment