Saturday, 15 September 2012

यादें है उनकी ..



"मेरे आँगन में यादे है उनकी दरख्त बरगद सी ,
मेरे झूलने से पहले पेंग बढा देती है आसमानों में ."
--विजय लक्ष्मी

No comments:

Post a comment