Tuesday, 15 May 2012

लेखनी ...





                                     सच है ये बात , मुझको भाती है लेखनी ..
                                      खुद से खुद की मुलाकात कराती  है लेखनी..
                                      खिला दे गुल अहसासों के सहरा में भी लेखनी 
                                      सावन औ पवन सा लहरा कर भिगोती है लेखनी ..
                                      पीड़ा औ दर्द से भी मिलाती है लेखनी ..
                                      जाने क्यूँ बार बार मुझको बुलाती है लेखनी
                                        हाँ .....मुझको .. बुलाती है लेखनी .---विजयलक्ष्मी 



            

No comments:

Post a Comment