Thursday, 5 July 2012

आंसू




           

                                          सरहद पर बैठा है वो निकल कर ,
                                      रोक सकता है रोक वर्ना समझ सब लुट गया .विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment