Sunday, 29 July 2012

क्यूँ मना कर दिया ?...




तान कर चादर सुला दूँ क्या सहर को फिर से 

आफ्ताब ने निकलने से गर मना कर दिया है ? 
रातों का सफर तन्हा अन्धरें से परेशां है ,
दीप तलक जाने से भी क्यूँ मना कर दिया ?
हैवानियत बढ़ गयी है ,इंसानियत भी नदारत ,
रोशन दिलों को करने से भी क्यूँ मना कर दिया?
कत्ल से परेशां हाल , देख कर दुर्दशा ए वतन, 
सजेगी कैसे जन्नत येबता, क्यूँ मना कर दिया ?
सजदे में बैठा हर शख्स गुम है सदमे में सुन ,
खोया है कहाँ छुपगया ,दिखने से क्यूँ मना कर दिया ?
                                                 ..विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment