Wednesday, 18 July 2012

इजाजत नहीं खनखनाहट की


चूडियों का मतलब कमजोरी नहीं होता ,
पायल की  छम छम भी लुभाती है हमको  ..
दुपट्टा सर पे लेके निकलते है मगर फिर भी ..
मगर कमजोर दिल की ख्वाहिश न की है हमने 
हथौड़े सा बजते है जैसे लुहार के हाथ में ,
धमक उसकी जीकर करके देखी है अपने आप मैं ,
टूटकर वृक्ष गिरता आवाज सूनी है कभी उसकी ....
चीत्कार चीरती है जैसे जूनून को... 
समन्दर के ऊपर खुले से आसमान में झुलसती है 
सहती है दर्द ए बेवफाई सा इजाजत नहीं खनखनाहट की .--विजयलक्ष्मी 

No comments:

Post a comment