Tuesday, 4 June 2013

जिन्दगी बदल जाये भी तो क्या है .


सच की खातिर जरूरत पड़े गर सच मर जाये भी तो क्या है ,
तेरी खुशियाँ सलामत रहे जिन्दगी बदल जाये भी तो क्या है .
-विजयलक्ष्मी 


No comments:

Post a comment