Tuesday, 4 June 2013

उस रात का असर जिन्दगी भर रहना था 
जरूरी भी था असर का रहना ..भूख की मार ऐसी ही होती है 
वक्त बदल जाता है किन्तु अतीत नहीं भूला जाता 
न बचपन के बीते दिन न वो इन्तजार करती वक्त की पहेली सी जलती बुझती सी इंतजार की घड़ियाँ
वक्त को कभी हम ठेलते है कभी वक्त हमे ठेलता है 
नम आँखों के साथ बीतते वक्त को गुजारा है इन आँखों ने 
और सहर का इन्तजार किया कई बार ...
सूरज भी कभी कभी बहुत इन्तजार कराता सा लगता है 
कभी सुर टूटकर बिखरते है कभी सरगम गूंज जाती है सन्नाटों में
और कविता ...लहरा उठती है अपने आप धुप से चटकते आंगन में ..
कभी बिच्छु से दौड़ पड़ते है और रेंगते है शरीर पर जैसे मौत घूम जाती है ..परचम लिए
उस चौराहे पर गये हो कभी जहां भूख कड़ी रहती है नंगे पाँव ..
प्यास बहती है नदी की तरह दूर तलक ..कविता वहां भी बहती है ठहरती नहीं मगर..
मुझे दिखती है कविता उन आँखों में लालसा है जिनमे सरहद पर गये बेटे के लौटने की सही सलामत
मुझे दिखती है कविता उन मासूम चेहरों में भूख से बिलबिलाते है जो सूखी छाती से चिपक कर
मुझे दिखती है कविता उन सहमी आँखों में ख्वाब ठहरे है जिनमे भविष्य के
मुझे दिखती है कविता उस स्त्री की मांग में सूनापन लिए अथक चलती है जिन्दगी की तलाश में
मुझे दिखती है कविता उस जहन में जो ख्वाब बेचते है सुनहरे से संसार के रंगीले
मुझे दिखती है कविता उस रिक्शे की चूँ चूँ में रोटी की कीमत में साँझ प्रहर की
मुझे दिखती है कविता उस बच्चे की लाचारी में जो जूते गांठता है सहर से साँझ तक
मुझे दिखती है कविता उस किसान के हल में जो भरी दोपहरी तपता है मिटटी के संग
मुझे दिखती है कविता उस मासूमियत में जो कूड़े के ढेर में जिन्दगी बीनते है हर वक्त
मुझे दिखती है कविता उस चेहरे में जो सहम जाता है किसी नजर को अपनी और उठता हुआ देखकर
मुझे दिखती है कविता उस चंदा में रोटी सी शक्ल लिए दीखता है ख्वाबा सा भूखा हो जैसे कोई
मुझे दिखती है कविता उस जंगल में दावानल से चीख रहे है पंछी और बसेरे जलते है है पशुओं के
मुझे दिखती है कविता उस चीख में जो सहमकर बैठी है आंगन के भीतर तन के पुजारियों से डर के
मुझे दिखती है कविता हर उस दर्द में जिससे घायल है इन्सान और मरता है सांसों सांसों में
हर कदम जब ठिकर से चीत्कार उठे सुर होता है कविता का
मेरे हृदय में द्रवित हुए सोतों में कविता बजती है प्रतिपल
जीवन की जलती सडक पर तपती देह चमककर दिखती है सोना तब उगती है कविता
चेहरे की झुर्रिया सुनती है कविता जीवन की चीख चीखकर हे कोने में मन के
राग बजता है स्नेह के धागों का जब ममता दुलराती है नन्हे छौने को
कोई मखमली ख्वाब कोई लाता है एक स्मित सूखे होठों पर कविता बन जाती है
सुख दुःख की नदिया के तीरे जब कोई गीत कर्म की रेख लिखी जीती है जीवन की धारा
बहती है असुवन में कविता सी छलक कर निर्मल धारा
और पवन की अठखेली अलबेली उस राह पर तोडती पत्थर कोई सहेली अलबेली
खेत खलिहान में कुदाल की धार और राहत की आवाजें गति है कविता ही
रक्तरंजित कदम जब उठकर चलते है दुल्हन से महावर लगाये गूंजती है कविता सी हुक कही कोने में
जीवन का हर लम्हा कविता कह जाता है सुनकर देखो
प्रेमप्रीत की जीत तभी दुःख में सम्बल और मधुर मुस्कान खिले
वक्त की बहती धारा में कश्ती बन जब जीवन सा साथ चले
और रागिनी बजती है मद्दम सुर में रुबाइयों सी अलबेली ठहर ठहरकर मेरे भी भीतर
भावों के धागे जब बुनती है जीवन की रेल और धडकती है आँखों में तेरी अपनेपन की महक ..
और अंचल में छाँव धुप संग चलती है कदमों के संग ...कविता कह दूं या राग गीत
या एक बीतराग मेरे जीवन का ...बहता है झरना सा झर झर..जीवन का
.- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment