Thursday, 27 February 2014

ॐ नम: शिवाय ..ॐ नम: शिवाय

शिवरात्रि के पावन अवसर पर प्रभु को एक भजन की भेंट.. 

ॐ नम: शिवाय ..ॐ नम: शिवाय
ॐ नम: शिवाय ...ॐ नम: शिवाय 
गरल पिया और सरल किया 
मानव का उत्थान किया
ओ डमरू वाले शंकर शम्भू
तुमने जीवन का कल्याण किया
ॐ नम: शिवाय ..ॐ नम: शिवाय
ॐ नम: शिवाय ...ॐ नम: शिवाय

तुमने तारे अधम ,अज्ञानी
आँखे तुझको न पहचानी
विष पीकर खुद ही तुमने
दुनिया को अमृत कर डाला
ॐ नम: शिवाय ..ॐ नम: शिवाय
ॐ नम: शिवाय ...ॐ नम: शिवाय

बिन तान तमूरा तांडव नृत्य रचा
बिन नाद ज्ञान का व्याकरण रचा
सन्यासी होकर भी शम्भू
गृहस्थ भी खूब निभा डाला
ॐ नम: शिवाय ...ॐ नम: शिवाय
ॐ नम: शिवाय ...ॐ नम: शिवाय.-- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment