Saturday, 30 August 2014

" एक ताजातरीन पैरोडी "



फ़िल्मी गाने पर एक ताजातरीन पैरोडी का आनन्द लीजिये --

देख तेरे संसार की हालत क्या हो गयी भगवान ,
कितना बदल गया इंसान

भैंसों से भी ज्यादा गया गुजरा हुआ है इंसान
नेता खाते दूधमलाई कर चारे का मिलान
खाकर डकार भी नहीं ले रहे कैसे हो भगवान
कितना बदल गया इन्सान ..

सच मानो भगवन रोटी बिन जी रहे है लोग ,
कोयला थोरियम खा गुजारा कर रहे है लोग
जिन्दा कैसे रहेगा बोलो भूखे पेट भगवान
कितना बदल गया इंसान

झूठ बोलना लाचारी है बेचारी है जनता
सच का मोती कहाँ मिलेगा झूठा हर इक बन्दा
चोरी करना कर्म है इनका, धोखा मक्कारी ईमान
कितना बदल गया इंसान ---- विजयलक्ष्मी 

No comments:

Post a comment