Tuesday, 28 August 2012

अकेला खुद में ..



हर शब्द सन्नाटे में तारी है जैसे मौत से मिल गया हों ,
चीखने की चाहत चिल्ला चिल्ला कर,शांत है खुद में .
इस मेले में भी अकेलापन वो भी इसकदर बस गया ,
जैसे गुल कोई गुंचा भी हों , एक अकेला भी खुद में .- विजयलक्ष्मी.

No comments:

Post a comment