Tuesday, 7 August 2012

मेरी तरह ..





















मेरे दर्द की छोड़ कुछ अपनी सुना
,
सुना तुमने भी किसी को रुसवा किया मेरी तरह .

भरकर बैठे रहे जज्बात दिल मैं ही ,
हिम्मत न कर सके बताने की उन्हें मेरी तरह.

इन्तजार तो गेसुओं की महक का ,
लबों से मुश्किल है इकरार, बिलकुल मेरी तरह .


पत्थर से शजर और अब गुल ..कांटे ,
बरसते हों दिन रात खुद में, बिलकुल मेरी तरह .


दुनिया बसी है एक खुद के भीतर ही ,
बैठकर अक्सर बात करते हों बिलकुल मेरी तरह .


रूठना मनाना बहुत कर चुके हों तुम ,
कहते मस्त हूँ, पर बीमार हों बिलकुल मेरी तरह .

पुराने साथियों का साथ छूटा है अब ,
सोचा,छोड़ दे देखने ख्वाब भी बिलकुल मेरी तरह .

जी लेंगे, न सोच जो करना है कर गुजर ,
रह जायेगा बंधा मर्यादा में ही बिलकुल मेरी तरह .

                                                                              ....विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment