Tuesday, 26 February 2013

कहा उसने ..निशाने बाजी का हुनर खुदा ने मुझको खूब दिया ,
चल छोड़ ,कलाबाजी बरसों की काम आई है तेरे .मैंने भी कह दिया - विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment