Friday, 4 July 2014

जिन्दा रहने को कवायद ....




"सृजन विनाश के सीने पर लिखा जाता हैं मगर 

जिन्दा रहने को कवायद होनी बहुत बाकी है अभी ".

------ विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment