Tuesday, 28 January 2014

निस्तार की जरूरत निस्तारण के लिए

निस्तार की जरूरत निस्तारण के लिए 
है घोटालों की जरूरत भंडारण के लिए.

क्यूँ करना नेता को अपनी जेब से खर्चा 
है सरकारी माल उडाना आहरण के लिए .

तकसीम करे जो दिल को धर्म को बेचते 
जागो .. साजिशो के निराकरण के लिए.

गर जज्ब ए जज्बात जब्त न कर सके कोई 

आमद औ जहनियत हो वातावरण के लिए

तस्कीन से तहरीर तकसीम की लिखी थी
हुई निस्तार की जरूरत निस्तारण के लिए.-- विजयलक्ष्मी


निस्तार -- चाकू .(खंजर )

No comments:

Post a comment