Friday, 17 October 2014

" भीगते रहे हम यूँही..जज्बात से "

" दर औ दीवार भीगे बरसात से
भीगा करे हम..बीती कई रात से

सूरज उग आया शहर में लेकिन
तरबतर हूँ मैं ..उसकी बात से

वो बादल तो खो गये कहीं
बहुत सख्त-जान हूँ.. जज्बात से

हैराँ है लोग दुश्मनाई करतब से
गरीब कब मरता है गुरबती ताप से

भूख मरती नहीं जिन्दा रखती है
खंजर चलता है.. जज्बात से

ये बरसात यूँही बरसे खुदारा
भीगते रहे हम यूँही..जज्बात से "
 --- विजयलक्ष्मी 

2 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - शनिवार- 18/10/2014 को नेत्रदान करना क्यों जरूरी है
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः35
    पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें,

    ReplyDelete
  2. Bahut sunder prastuti ...badhaai ...dusara aashaar gazab lga mujhe... Mere blog par aapka swagat hai :)

    ReplyDelete