Wednesday, 3 October 2012

गुलाब का बगीचा सजायेंगे .



दफना दिया आज खुद को हमने फिर एक बार ,
ऊपर से कब्र के गुल ओ गुलाब का बगीचा सजायेंगे .- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment