Tuesday, 4 December 2012

जिंदगी एक वाकया ..

क्या होता गर ये जिंदगी वाकयो में ही बँटी होती ,
वक्त में सहर से शाम तक की जिंदगी लिखी होती. - विजयलक्ष्मी


जिंदगी एक वाकया नहीं ,लगती लम्बी कहानी सी ,
झूठी होकर भी क्यूँ ,सत्य की कसौटी पर सुहानी सी .- विजयलक्ष्मी



जिंदगी के वाकये, वाक्यों के फलसफों में ,
हमशक्ल थी तो क्या , वो सत्य भी तो थी .- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment