Monday, 17 December 2012

रंगीनियाँ छाई हों गर ...

"घर दलालों के रंगीनियाँ छाई होगीं गर ,
ये जरूरी है कि देशभक्तों के घर अँधेरा काबिज हों
." - विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment