Monday, 18 March 2013

कविता तो होती भावों से भरी ..

"जब शब्द रिसे जख्मों जैसे ..और महक उठे बंजर सी जमीं ..
सब साथ चले पर साथ न हों ,कविता तो होती भावों से भरी .".
विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment