Sunday, 13 December 2015

" मुर्दा हुए वकील ,,बिकता मिला न्याय , क्या करूं ||" [ 3 ]



" पाश्चात्यीकरण के फेर में मर्यादा पर ठेस ,,
तहजीब भाति नहीं,करें सत्य से परहेज ||

आखर-आखर बिखरे हैं अहंकार के पत्थर
गिरी हुई नियत के, नहीं फेंकने से गुरेज ||

नेताओ के बीच में ईमान बना फुटबॉल
स्वार्थपूर्ति के लिए नीचता रहे सहेज ||

मर्यादित भाषा नहीं , चेहरा दिखे कुरूप
मर्यादित तहजीब ही रखे मुख पर तेज ||

स्वार्थ के धंधे दिखे न्याय कुर्सी अभियान
करते बलात्कारी की फांसी से परहेज ||

दया-धर्म के नाम पर दिखते आतंकवादी
गौकशी नहीं जुर्म लगे चले जाए परदेस ||"
----- विजयलक्ष्मी

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^

" तहजीब भूल अभिव्यक्ति की देखो ढंग हुए बदरंग ,
प्रश्नचिन्ह भी लगा रहे वही नग्नता को कहे दबंग "
.--- विजयलक्ष्मी


^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^


" मुसाफिर बदहवास तलाश मंजिल की क्या करूं ,
चल रही साँस है नहीं किसी की आस , क्या करूं.||


बजते स्वरों से कान दुश्मनों के खड़े हुए ,
नेताओं से परेशान झूठ सच का प्रमाण, क्या करूं ||


रंगत ए वतन बहुत नाजुक हुई आजकल 
स्वार्थ की शिनाख्त शिकायत भी किससे क्या करूं ||


कानून का खौफ भी सबको नहीं होता ,
मुर्दा हुए वकील ,,बिकता मिला न्याय , क्या करूं ||


वो बेच रहा है गाय धन के हिसाब पर ,
हर कोई मौकापरस्त मरा पड़ा ईमान, क्या करूं ||


कलदार को माईबाप बना बैठा इंसान ,
मोटा हुआ दलाल,भूखा मरता किसान, क्या करूं ||


कलम मानती नहीं चलने को परेशान .
झूठ सच पर सवार ,सहमी सी आवाज, क्या करूं ||"
.----------- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment