Monday, 19 January 2015

" ये उत्तराखंड शीर्ष भारत का देख दुनिया सारी अचम्भित है"

खूबसूरत दृश्य है वर्णन इसका कठिन है
चारो तरफ पर्वत श्रृंखला नदियो का जीवन अति जटिल है
सौन्दर्य युक्त घाटिया पुष्पित पल्लवित है
प्राकृतिक उपादानो से संचित है

श्वेत मुकुट धारे खड़ा हिमालय विस्तृत है
धरती का हरित बाना देख जगत सारा चकित है
सूर्य स्वर्ण रश्मि रथ सवार परिलक्षित है
छिपता संध्या के आंचल में करता जग विस्मृत है

गंगा की धरा अविरल यमुना संग धरती पर अवतरित है
जय गान नित्य आरती जय जय पवन भागीरथी निरत है
पावन धरती म्न्त्रोच्चारित संतो की भूमि है
तटनि के तट बैठ ज्ञान करते प्रसरित है

बहुमूल्य वन औषधि लिए पल्लवित है
अनमोल है धरा पर स्वास्थ्य शक्ति इनमे संचित है
वर्षा मौसम को करते अनुकूल मानव जाति हित है
ये उत्तराखंड शीर्ष भारत का देख दुनिया सारी अचम्भित है
----- विजयलक्ष्मी 

No comments:

Post a comment