Thursday, 18 December 2014

" पूछते हो ,,कयामत आने का सबब "


" गीले से रंग देकर मुझे दिल के,
पूछते हो,, मुस्कुराने का सबब||

मेहँदी में ख्वाब पलको में सुरत
पूछते हो,,आंसू बहाने का सबब||

अरमानों की महफिल लगाकर
पूछते हो,,दामन उड़ाने का सबब||

लहर उम्मीद की अहसास की कश्ती
पूछते हो ,,डूबने उतराने का सबब||

गुजरे तूफ़ान औ सुनामी सा छूकर
पूछते हो ,,कयामत आने का सबब|| "
---- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment