Thursday, 19 March 2015

" यूँ तो मौत से निकाहनामा पक्का है हमारा "

 "इक ख्वाब संवरने दे ए जिन्दगी पलकों पर ,
यूँ तो मौत से निकाहनामा पक्का है हमारा "--- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment