Wednesday, 17 September 2014

"...मगर फिर भी ||"

यूँ ही कुछ सुकूं तो है मगर फिर भी ,
तस्वीर पर नजर तो है मगर फिर भी ||

चांदनी से लग रहा है चाँद था यहींकहीं
दीखता नूर है नजर में मगर फिर भी ||

कुछ कहना चाहते हो मुझसे , कह दो
मानना चाहते हैं तुम्हारी मगर फिर भी ||

कैसे समेटूं मैं शब्दों का बंधन भेज दो
आवारगी छूती नहीं यूँतो मगर फिर भी ||

टूट न जाये बाँध जो लपेटे है लहरों को
यूँ तो किनारा मिल गया मगर फिर भी ||

तैरने की कोशिश बकाया डूबने का डर
बिन पतवार है कश्ती ....मगर फिर भी ||
-------- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment