Tuesday, 26 February 2013

तौबा ...



निगाह ए मुहब्बत लबरेज नजरों का बहाना ,तौबा ,

वो देखकर खुद ही पलकों पे रुक गए औ नाम हमारा, तौबा ...विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment