Tuesday, 26 February 2013

गुनगुनाकर देख लो ..

मौत के बाद का सन्नाटा ठहरा है यहाँ ,
शहर ए खामोशां की चीख सुनती है सिर्फ रूहों को ,
इन्सां डरते है झाँकने से वहाँ ..
गुनगुनाकर देख लो ,यकीन नहीं होता गर ...विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment