Tuesday, 7 May 2013

ये रंग वफा का ..


ये रंग वफा का है मेरी जो मेरे भीतर ही बहता है 

जिन्दगी मिलती जिस दिल से ये उसी में रहता है
.- विजयलक्ष्मी 

No comments:

Post a comment