Wednesday, 3 May 2017

" कहदो सत्ताधारी को देश का बंटवारा नहीं होगा "

" कहदो सत्ताधारी को देश का बंटवारा नहीं होगा
काश्मीर सिरमौर हमारा हमसे न्यारा नहीं होगा ||

जितने भी गद्दार मिले सर कलम सभी की करवा दो
तिरंगे से चिढने वालों को देश-निकाला दिलवा दो ||

राष्ट्र गीत है शान हमारी ,मिटटी नहीं मिलाने देंगे ,,
हाथ खोल दो सेना के, दुश्मन को मार भगा देंगे ||

सच बतलाऊं दिल दुखता जब शाहदत की सुनते हैं
सपने पूरे हमारे हो वो कब कोई सपना बुनते हैं ||

हर जज्बात वतन पर न्यौछावर है जिनका
क्या दूं मन सोच रहा,,ये जन्म ऋणी रहेगा उनका ||

वीर वतन पर हैं कुर्बान हम नतमस्तक हैं उनके आगे ,
उऋण नहीं होना सम्भव हम नतमस्तक हैं उनके आगे ||

जान हथेली पर रखकर वो आगे को बढ़ जाते हैं ,
दुश्मन की छाती पर धर कदम शूलों से चढ़ जाते हैं ||

पत्थर बरसाने वालो को मत माफ़ करो बस साफ़ करो
न्यायालय और मानव हित सब सेना के साथ करो ||

जो बोलेगा राष्ट्र विरुद्ध गद्दार उसे घोषित करदो ,
फांसी का फंदा पहनाओ या बंदूक माथे धर दो ||
 " ---- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment