Thursday, 26 May 2016

" तैने ,मुझमे आग लगाई मैंने तेरे भीतर सुलगाई,,"




तैने ,मुझमे आग लगाई मैंने तेरे भीतर सुलगाई,,
तेरी दोस्ती की लत मैंने अंतिम साँस तक निभाई

 --- विजयलक्ष्मी

" कर्मचक्र संग चलता पहिया समयरथ की धुरी का ,,
साँझ सवेरे रोके कौन, थामे कौन जीवन मजबूरी का "
--- विजयलक्ष्मी


लगता है झूठे स्वप्न में जी रहे हैं आजकल ...
करें क्या सरकार से घोटाले खफा हैं आजकल
 ---- विजयलक्ष्मी

No comments:

Post a comment